लेटेस्ट

संकल्प पर्यावरण संरक्षण का – कविता । Poem on World Environment Day in Hindi

रत्न प्रसविनी हैं वसुधा,यह हमको सब कुछ देती है।माँ...

पेटूराम – Peturam Poem in Hindi Lyrics

चलिए, भोजन तैयार है ।आप भोजन कीजिए। मैं…..!क्या आप...

आई अब की साल दिवाली- दीपावली पर दर्द भरे गीत । Aayi Ab Ki...

आई अब की साल दिवालीमुंह पर अपने खून मलेचारों...

बेटियों पर कविता तिवारी की कविता । Kavita Tiwari Poem on Beti

जिम्मेदारियों का बोझ परिवार पे पड़ा तो ,ऑटो ,...

बेटी हमारे घर में आई । बेटी पर कविता । Beti Hamare Ghar Me...

बेटी हमारे घर में आई,खुशियों की बारात लाई,प्यार का...
Homeकविताएंआओ, मिलकर बचाएँ । Poem on Environment in Hindi

आओ, मिलकर बचाएँ । Poem on Environment in Hindi

अपनी बस्तियों की
नंगी होने से
शहर की आबो-हवा से बचाएँ उसे

बचाएँ डूबने से
पूरी की पूरी बस्ती को
हड़िया में
अपने चहरे पर
संथाल परगना की माटी का रंग
भाषा में झारखंडिपन

ठंडी होती दिनचर्या में
जीवन की गर्माहट
मन का हरापन

भोलापन दिल का
अक्खड़पन, जुझारूपन भी

भीतर की आग
धनुष की डोरी
तीर का नुकीलापन
कुल्हाड़ी की धार
जगंल की ताज हवा

नदियों की निर्मलता
पहाड़ों का मौन
गीतों की धुन
मिट्टी का सोंधापन
फसलों की लहलहाहट

नाचने के लिए खुला आँगन
गाने के लिए गीत
हँसने के लिए थोड़ी-सी खिलखिलाहट
रोने के लिए मुट्ठी भर एकान्त

बच्चों के लिए मैदान
पशुओं के लिए हरी-हरी घास
बूढ़ों के लिए पहाड़ों की शांति

और इस अविश्वास-भरे दौर में
थोड़ा-सा विश्वास
थोड़ी-सी उम्मीद
थोडे-से सपने

आओ, मिलकर बचाएँ
कि इस दौर में भी बचाने को
बहुत कुछ बचा है
अब भी हमारे पास!

Explore More - Hindi Shayari, Quotes, Lyrics, English News, Hindi News, Web Development, IT Services, SEO

Related Posts

संकल्प पर्यावरण संरक्षण का – कविता । Poem on World...

रत्न प्रसविनी हैं वसुधा,यह हमको सब कुछ देती है।माँ...

पेटूराम – Peturam Poem in Hindi Lyrics

चलिए, भोजन तैयार है ।आप भोजन कीजिए। मैं…..!क्या आप...

आई अब की साल दिवाली- दीपावली पर दर्द भरे गीत...

आई अब की साल दिवालीमुंह पर अपने खून मलेचारों...

बेटियों पर कविता तिवारी की कविता । Kavita Tiwari Poem...

जिम्मेदारियों का बोझ परिवार पे पड़ा तो ,ऑटो ,...

टॉप ट्रेंडिंग

बेटी हमारे घर में आई । बेटी पर कविता । Beti Hamare Ghar Me...

बेटी हमारे घर में आई,खुशियों की बारात लाई,प्यार का...

उम्मीदें तैरती रहती हैं – Ummidein, Kashtiyan, Aandhiyan, Tuafan, Aas, Vishwas Par Kavita

उम्मीदें तैरती रहती हैं,कश्तियां डूब जाती है..कुछ घर सलामत...

विधवा के लिए शायरी, सुविचार, कविता । Vidhwa Shayari Suvichar Status Quotes Poems in...

सुनो ,जवान लड़की के विधवा हो जाने पर जो...

गलतियों से जुदा तू भी नहीं, मैं भी नहीं

गलतियों से जुदा तू भी नहीं, मैं भी नहींदोनों...

बेटियों पर कविता तिवारी की कविता । Kavita Tiwari Poem on Beti

जिम्मेदारियों का बोझ परिवार पे पड़ा तो ,ऑटो ,...