अमीर की बेटी पार्लर में – Amir, Beti, Parlor, Garib, Sasural Par Shayari

अमीर की बेटी
पार्लर में जितना दे आती है,
उतने में गरीब की बेटी
ससुराल चली जाती है!

यह भी पढ़ें

ख्वाहिशों के बाजार – Khwahish, Bazar, Sasta, Garib, Muskurahat, Kharid Shayari

ख्वाहिशों के बाजार सस्ते होते है,गरीब मुस्कुराहट यूँ ही...

टॉप ट्रेंडिंग

जिस वक्त उसने कहातुम्हारी सोच ही घटिया है,उस वक्त...

याद करने की हम नेहद कर दी मगर,भूल जाने...

▪️ सत्कर्म करें, अहंकार नहीं ▪️ एक बार की बात...