मैं तो वहीं से गुजरता हूँ – Apnapan, Jhalak, Aawaz, Jamana

मैं तो वहीं से गुजरता हूँ
जहाँ अपनापन झलकता है।
वरना आवाज़ तो
ये ज़माना दिया करता है।

यह भी पढ़ें

जिंदगी बदल देने वाली 7 आदतें । 7 Life Changing Habits in Hindi

1.रोज अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए मेहनत...

ना चांद चाहिए – Chand, Falak, Teri Jhalak

ना चांद चाहिएना फलक चाहिएमुझे तो बस तेरीएक झलक...

कोई मरहम नहीं चाहिये – Marham, Zakhm, Jhalak Par Shayari

कोई मरहम नहीं चाहियेजख्म मिटाने के लिये,तेरी एक झलक...

टॉप ट्रेंडिंग

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,गोविन्द...

हो भी नहीं और हर जहाँ होतुम एक गोरखधंधा...

परिन्दों की फ़ितरत सेआए थे वो मेरे दिल में,ज़रा...