बर्फ का वो शरीफ टुकड़ा – Barf, Sharif, Jaam, Badnam, Safai, Sharab Par Shayari

बर्फ का वो शरीफ टुकड़ा
जाम में क्या गिरा, बदनाम हो गया।
देता जब तक अपनी सफाई,
वो खुद शराब हो गया।।

यह भी पढ़ें

मिलावट है तेरे इश्क में – Milawat, Ishq, Itar, Sharab, Mehak, Behakna par Shayari

मिलावट है तेरे इश्क मेंइतर और शराब की,कभी हम...

गम इस कदर मिला कि – Gam, Khushi, Pina, Sharab, Taras, Tanha Par Shayari

गम इस कदर मिला कि घबराकर पी गए हम,खुशी...

टॉप ट्रेंडिंग

लोक आस्था एवं सूर्य उपासना के महापर्व छठ पूजा...

कोई ना दे हमें खुश रहने की दुआतो भी...

“शिक्षक” और “सड़क”दोनों एक जैसे होते हैंखुद हाँ हैं...