चलो अच्छा हुआ कि – Tanha Shaam Sad Shayari

चलो अच्छा हुआ कि
शाम ही तन्हा गुज़री,
मिल के बिछड़ते तो
रात कटनी मुश्किल होती.

यह भी पढ़ें

गम इस कदर मिला कि – Gam, Khushi, Pina, Sharab, Taras, Tanha Par Shayari

गम इस कदर मिला कि घबराकर पी गए हम,खुशी...

टॉप ट्रेंडिंग

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,गोविन्द...

हो भी नहीं और हर जहाँ होतुम एक गोरखधंधा...

अच्छे किरदार, अच्छे संस्कार और अच्छे विचार वाले लोग...