ऐसा ना हो तुझको भी – Diwana, Tanhai, Tasvir Par Alone Shayari in Hindi

ऐसा ना हो तुझको भी
दीवाना बना डाले,
तन्हाई मैं खुद अपनी
तस्वीर न देखा कर.

यह भी पढ़ें

कितने चेहरे कितनी शक्लें – Chehre, Shakl, Tanhai, Aaina Par Sad Shayari

कितने चेहरे कितनी शक्लेंफिर भी तन्हाई वही,कौन ले आया...

कुछ लोग ये सोचकर भी – Haal, Pagal, Diwana, Sher Shayari in Hindi

कुछ लोग ये सोचकर भीमेरा हाल नहीं पूछते,कि ये...

कितने अजीब हैं हम लोग

कितने अजीब हैं हम लोगहकीकत में कम औरतस्वीर में...

टॉप ट्रेंडिंग

चिलचिलाती धूप में आए ढूंढने छांव,देखा जब मोर को...

वो कहाँ तूझसे इश्क़ करता है,बस तन्हा होता है...

उम्मीदें तैरती रहती हैं,कश्तियां डूब जाती है.. कुछ घर सलामत...