दोपहर तक बिक गया – Sach or Jhuth Par Suvichar

दोपहर तक बिक गया
बाजार का हर एक झूठ.
और एक गरीब सच लेकर
शाम तक बैठा ही रहा।

यह भी पढ़ें

टॉप ट्रेंडिंग

एक कौआ था जो अपनी जिंदगी से बहुत खुश...

तुझे चाहा भी तो इजहार न कर सके,कट गई...

न चादर बड़ी कीजिये,न ख्वाहिशें दफन कीजिये,चार दिन की...