गुरुर में इंसान को – Gurur, Insaan, Chhat, Makan Par Shayari

गुरुर में इंसान को
कभी इंसान नहीं दिखता
जैसे अपनी छत पर चढ़ जाओ तो
अपना ही मकान नहीं दिखता

यह भी पढ़ें

नफरत खुलकर और मोहब्बत – Nafrat, Mohabbat, Chhupkar, Insaan, Duniya, Dar Par Shayari

नफरत खुलकर औरमोहब्बत छुप कर करते है,हम इंसान अपनी...

लोगों से रिश्ते निभाकर – Rishtey, Sikh, Fikar, Insaan, Bhav Par Shayari

लोगों से रिश्ते निभाकरमैंने सिर्फ एक ही बात सीखी...

रामधारी सिंह दिनकर के अनमोल विचार | Ramdhari Singh Dinkar Quotes in Hindi

इच्छाओं का दामन छोटा मत करो ,जिंदगी के फल...

टॉप ट्रेंडिंग

तुझे चाहा भी तो इजहार न कर सके,कट गई...

एक कौआ था जो अपनी जिंदगी से बहुत खुश...

खून में है उबालक्योंकि वो खानदानी हैऐसे ही नहीं...