हमें पता है – Mirza Ghalib Shayari in Hindi

हमें पता है
तुम कहीं और के मुसाफिर हो,
हमारा शहर तो बस यूँ ही
रास्ते में आया था.

यह भी पढ़ें

याद करने की हम ने – Yaad, Bhulna Par Sad Shayari in Hindi

याद करने की हम नेहद कर दी मगर,भूल जाने...

सुना है बहुत बारिश है तुम्हारे शहर में – Barish, Shahar, Bhigna, Galatfahmiyan, Yaad Par Shayari

सुना है बहुत बारिश है तुम्हारे शहर में,ज्यादा भीगना...

कितने चेहरे कितनी शक्लें – Chehre, Shakl, Tanhai, Aaina Par Sad Shayari

कितने चेहरे कितनी शक्लेंफिर भी तन्हाई वही,कौन ले आया...

टॉप ट्रेंडिंग

जिंदगी के इस रण में खुद ही कृष्ण और...

आओ लें समाजिक एकता का संकल्प, समाज की तरक्की...

वो मर्द बनोजिसे औरत चाहे,वो नहींजिसे औरत चाहिए.