इतना तो करना स्वामी – भजन लिरिक्स । Itna To Karna Swami Bhajan Lyrics in Hindi

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से निकले,
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से निकले।

श्री गंगा जी का तट हो, यमुना का वंशीवट हो,
मेरा सांवरा निकट हो जब प्राण तन से निकले,
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,

पीताम्बरी कसी हो छवि मन में यह बसी हो,
होठों पे कुछ हसी हो जब प्राण तन से निकले,
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,

श्री वृन्दावन का स्थल हो मेरे मुख में तुलसी दल हो,
विष्णु चरण का जल हो जब प्राण तन से निकले,
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,

जब कंठ प्राण आवे कोई रोग ना सतावे,
यम दर्शना दिखावे जब प्राण तन से निकले,
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,

उस वक़्त जल्दी आना नहीं श्याम भूल जाना,
राधा को साथ लाना जब प्राण तन से निकले,
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले.

यह भी पढ़ें

दीन दयाल भरोसे तेरे – राधा स्वामी सत्संग भजन । Din Dayal Bharose Tere – Radha Swami Satsang Bhajan Lyrics in Hindi

दीन दयाल भरोसे तेरेदीन दयाल भरोसे तेरेसब परिवर चढ़ाया...

टॉप ट्रेंडिंग

हो भी नहीं और हर जहाँ होतुम एक गोरखधंधा...

इक परिंदा अभी उड़ान में हैतीर हर शख़्स की...

शब्द और दिमाग सेदुनिया जीती जाती है,दिल तो आज...