कलम, आज उनकी जय बोल – रामधारी सिंह दिनकर की प्रसिद्ध कविता

जला अस्थियाँ बारी-बारी
छिटकाई जिनने चिंगारी,
जो चढ़ गये पुण्यवेदी पर लिए बिना गर्दन का मोल ।
कलम, आज उनकी जय बोल ।

जो अगणित लघु दीप हमारे
तूफानों में एक किनारे,
जल-जलाकर बुझ गए, किसी दिन माँगा नहीं स्नेह मुँह खोल ।
कलम, आज उनकी जय बोल ।

पीकर जिनकी लाल शिखाएँ
उगल रहीं लू लपट दिशाएं,
जिनके सिंहनाद से सहमी धरती रही अभी तक डोल ।
कलम, आज उनकी जय बोल ।

अंधा चकाचौंध का मारा
क्या जाने इतिहास बेचारा ?
साखी हैं उनकी महिमा के सूर्य, चन्द्र, भूगोल, खगोल ।
कलम, आज उनकी जय बोल ।

यह भी पढ़ें

रूप चौदस की हार्दिक शुभकामनाएं पोस्टर इमेज । Roop Chaudas Wishes Poster Image Status Quotes SMS in Hindi

रूपहले तुम्हारे चेहरे पर, चौदहवी का चाँद मुस्काये !हो...

ना चांद चाहिए – Chand, Falak, Teri Jhalak

ना चांद चाहिएना फलक चाहिएमुझे तो बस तेरीएक झलक...

टॉप ट्रेंडिंग

मुझमें हुनर कुछ खास नहींसादगी के सिवा कुछ मेरे...

अत्यंत गरीब परिवार का एक बेरोजगार युवक नौकरी की...

मैं किस्मत कासबसे पसंदीदा खिलौना हूँ,वो रोज़ जोड़ती है...