करम के साथ – Karam, Sitam, Fool, Kaante Shayari in Hindi

करम के साथ
सितम भी बला के रक्खे थे,
हर एक फूल ने
काँटे छुपा के रक्खे थे!

यह भी पढ़ें

मुझे मंजूर थे

मुझे मंजूर थेवक़्त के सब सितम मगर,तुमसे मिलकर बिछड़...

कहाँ तलाश करोगे

कहाँ तलाश करोगेतुम मुझ जैसा कोई,जो तुम्हारे सितम भी...

टॉप ट्रेंडिंग

सिया रघुवर जी के संग परन लगी हरे हरेपरन...

जिम्मेदारियों का बोझ परिवार पे पड़ा तो ,ऑटो ,...

परदेसी से दिल ना लगानावो बड़े मजबूर होते हैं,वो...