करम के साथ – Karam, Sitam, Fool, Kaante Shayari in Hindi

करम के साथ
सितम भी बला के रक्खे थे,
हर एक फूल ने
काँटे छुपा के रक्खे थे!

यह भी पढ़ें

मुझे मंजूर थे

मुझे मंजूर थेवक़्त के सब सितम मगर,तुमसे मिलकर बिछड़...

कहाँ तलाश करोगे

कहाँ तलाश करोगेतुम मुझ जैसा कोई,जो तुम्हारे सितम भी...

टॉप ट्रेंडिंग

वो कहाँ तूझसे इश्क़ करता है,बस तन्हा होता है...

देश और दुनियां में शांति और भाईचारा बना रहे,...

कोमल है कमज़ोर नहीं तूशक्ति का नाम ही नारी...