खराब ” धर्म ” नहीं – Kharab, Dharma, Insaan Par Shayari Status

खराब ” धर्म ” नहीं
“इंसान ” होता है,
और खराब ” इंसान ” का
कोई ” धर्म ” नहीं होता है.

यह भी पढ़ें

नफरत खुलकर और मोहब्बत – Nafrat, Mohabbat, Chhupkar, Insaan, Duniya, Dar Par Shayari

नफरत खुलकर औरमोहब्बत छुप कर करते है,हम इंसान अपनी...

लोगों से रिश्ते निभाकर – Rishtey, Sikh, Fikar, Insaan, Bhav Par Shayari

लोगों से रिश्ते निभाकरमैंने सिर्फ एक ही बात सीखी...

गुरुर में इंसान को – Gurur, Insaan, Chhat, Makan Par Shayari

गुरुर में इंसान कोकभी इंसान नहीं दिखताजैसे अपनी छत...

टॉप ट्रेंडिंग

जिंदगी के इस रण में खुद ही कृष्ण और...

आओ लें समाजिक एकता का संकल्प, समाज की तरक्की...

सिया रघुवर जी के संग परन लगी हरे हरेपरन...