खुशियों की तरह गम भी एक दस्तूर है

खुशियों की तरह
गम भी एक दस्तूर है
जमाने का
जब हर ओर छा जाता है
अँधेरा
तो वक्त आता है
दिया जलाने का

यह भी पढ़ें

टॉप ट्रेंडिंग

एक कौआ था जो अपनी जिंदगी से बहुत खुश...

तुझे चाहा भी तो इजहार न कर सके,कट गई...

उधर उनकी चल रही हैऔरों से गुफ़्तगू,इधर मेरी खुद...