कोई प्रशंसा करे या निंदा

कोई प्रशंसा करे या निंदा
दोनों ही अच्छे हैं
क्योंकि प्रशंसा प्रेरणा देती है
और निंदा गलती सुधारने का अवसर

यह भी पढ़ें

आपके दिन की पहली विफलता – सुप्रभात सुविचार । Suprabhat Suvichar Image in Hindi

आपके दिन की पहली विफलतातब शूरू होती है,जब आप...

टॉप ट्रेंडिंग

तुझे चाहा भी तो इजहार न कर सके,कट गई...

एक कौआ था जो अपनी जिंदगी से बहुत खुश...

छोटे थे तो सब नाम से बुलाते थे,बड़े हुए...