मिलावट है तेरे इश्क में – Milawat, Ishq, Itar, Sharab, Mehak, Behakna par Shayari

मिलावट है तेरे इश्क में
इतर और शराब की,
कभी हम महक जाते है
कभी हम बहक जाते हैं.

यह भी पढ़ें

गर शौक चढ़ा है इश्क़ का – Shauk, Ishq, Imtehan, Barish, Ashq, Pehchan Par Shayari

गर शौक चढ़ा है इश्क़ कातो इम्तेहान देना तुम,बारिश...

हुनर मोहब्बत का – Hunar, Mohabbat, Husn, Ishq Par Shayari

हुनर मोहब्बत काहर किसी को कहाँ आता है,लोग हुस्न...

अभी बाकी है इश्क़ में – Ishq, Imtehan, Gali, Kutai Par Shayari

अभी बाकी है इश्क़ मेंइम्तेहान उसका,अभी मेरी गली मेंकुटा...

टॉप ट्रेंडिंग

चिलचिलाती धूप में आए ढूंढने छांव,देखा जब मोर को...

वो कहाँ तूझसे इश्क़ करता है,बस तन्हा होता है...

उम्मीदें तैरती रहती हैं,कश्तियां डूब जाती है.. कुछ घर सलामत...