मुझे मंजूर थे

मुझे मंजूर थे
वक़्त के सब सितम मगर,
तुमसे मिलकर बिछड़ जाना
ये सजा ज़रा ज्यादा हो गयी.

यह भी पढ़ें

करम के साथ – Karam, Sitam, Fool, Kaante Shayari in Hindi

करम के साथसितम भी बला के रक्खे थे,हर एक...

दिल से चाहो तो सजा देते है लोग – Dil Se Chahna, Saja, Jazbaat, Thukrana, Insan, Milan, Parindhe par Shayari

दिल से चाहो तो सजा देते है लोग,सच्चे जज्बात...

कहाँ तलाश करोगे

कहाँ तलाश करोगेतुम मुझ जैसा कोई,जो तुम्हारे सितम भी...

टॉप ट्रेंडिंग

इक परिंदा अभी उड़ान में हैतीर हर शख़्स की...

पूरे की ख्वाहिश मेंइंसान बहुत कुछ खोता है,भूल जाता...

है प्रभु, मेरी दुआओं का असर इतना रहे किमेरी...