मैं नासमझ ही सही – Nasamajh, Tara, Khwahish, Tut Jau Love Shayari for GF/Wife

मैं नासमझ ही सही
मगर वो तारा हूं, जो
तेरी एक ख्वाहिश के लिए
सौ बार टूट जाऊं

यह भी पढ़ें

न चादर बड़ी कीजिये – Hindi Motivational Lines on Life

न चादर बड़ी कीजिये,न ख्वाहिशें दफन कीजिये,चार दिन की...

ख्वाहिशों का मोहल्ला – Khwahish, Mohalla, Jarurat, Gali Par Shayari

ख्वाहिशों का मोहल्लाबहुत बड़ा होता है,बेहतर है हम, ज़रूरतों...

टॉप ट्रेंडिंग

आप सभी को शारदीय #नवरात्रि के पावन पर्व की...

हुस्न-ए-बेनजीर के तलबगार हुए बैठे हैं,उनकी एक झलक को...

सिया रघुवर जी के संग परन लगी हरे हरेपरन...