निगाहों से क़त्ल कर डालो – Nigah, Katl, Taklif, Khanjar, Gardan Par Shayari

निगाहों से क़त्ल कर डालो
न हो तकलीफ दोनों को
तुम्हें खंजर उठाने की
हमें गर्दन झुकाने की

यह भी पढ़ें

टॉप ट्रेंडिंग

आप सभी को शारदीय #नवरात्रि के पावन पर्व की...

अच्छे किरदार, अच्छे संस्कार और अच्छे विचार वाले लोग...

यह भी पढ़ें - डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जीवन...