पैसा उस छठी इन्द्री के समान है – Pesa, Indri, Abhav, Nishkriy Par William Somerset Maugham Ka Suvichar

पैसा उस छठी इन्द्री के समान है
जिसके अभाव में
बाकी पाँच भी निष्क्रिय हो जाती हैं।

  • विलियम समरसेट मघम

यह भी पढ़ें

प्यार ही सब कुछ है – Pyar, Pesa, Sobhagya Par Bili Lim Quote

प्यार ही सब कुछ है, पैसा नहींसौभाग्य से, मैं...

टॉप ट्रेंडिंग

आप सभी को शारदीय #नवरात्रि के पावन पर्व की...

अच्छे किरदार, अच्छे संस्कार और अच्छे विचार वाले लोग...

यह भी पढ़ें - डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जीवन...