पुरुष जब हारने लगता है तो – Purush, Haar, Hamla, Charitra Par Shayari

पुरुष जब
हारने लगता है तो,
पहला हमला
उसके चरित्र पर करता है.

यह भी पढ़ें

स्त्री कभी हारती नहीं है – Stri, Haar, Samaj, Bachpan, Dar Par Shayari

स्त्री कभी हारती नहीं हैउसे हराया जाता है,समाज क्या...

जरूरत ही नहीं उस जीत की – Jeet, Jarurat, Sath, Haar Par Shayari

जरूरत ही नहीं उस जीत कीजिसमे तुम न हो,तुम्हारे...

जिस दिन सादगी – Sadgi, Shringar, Aaina, Haar Par Shayari Status

जिस दिन सादगीश्रृंगार हो जाएगी,यकिन मानिये उस दिनआइने की...

टॉप ट्रेंडिंग

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,गोविन्द...

हो भी नहीं और हर जहाँ होतुम एक गोरखधंधा...

है प्रभु, मेरी दुआओं का असर इतना रहे किमेरी...