श्री राधा रानी की आरती । Radha Rani Ji Aarti Lyrics in Hindi

आरती श्री वृषभानुसुता की, मंजु मूर्ति मोहन ममता की।।
त्रिविध तापयुत संसृति नाशिनि, विमल विवेक विराग विकासिनि।
पावन प्रभु पद प्रीति प्रकाशिनि, सुन्दरतम छवि सुन्दरता की।।
आरती श्री वृषभानुसुता की।

मुनि मन मोहन मोहन मोहनि, मधुर मनोहर मूरती सोहनि।
अविरलप्रेम अमिय रस दोहनि, प्रिय अति सदा सखी ललिता की।।
आरती श्री वृषभानुसुता की।

संतत सेव्य सत मुनि जनकी, आकर अमित दिव्यगुन गनकी।
आकर्षिणी कृष्ण तन मनकी, अति अमूल्य सम्पति समता की।।
आरती श्री वृषभानुसुता की।

कृष्णात्मिका, कृषण सहचारिणि, चिन्मयवृन्दा विपिन विहारिणि।
जगज्जननि जग दुखनिवारिणि, आदि अनादिशक्ति विभुता की।।
आरती श्री वृषभानुसुता की।

यह भी पढ़ें

बेटियों पर कविता तिवारी की कविता । Kavita Tiwari Poem on Beti

जिम्मेदारियों का बोझ परिवार पे पड़ा तो ,ऑटो ,...

छोटी सी किशोरी मोरे अंगना मे डोले रे लिरिक्स : Choti Si Kishori Mere Angana Mein Dole Re Lyrics in Hindi

छोटी सी किशोरी, मोरे अंगना मे डोले रेछोटी सी...

जय गणेश देवा – आरती लिरिक्स इन हिंदी । Ganesh Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।माता जाकी पार्वती,...

टॉप ट्रेंडिंग

वो कहाँ तूझसे इश्क़ करता है,बस तन्हा होता है...

देश और दुनियां में शांति और भाईचारा बना रहे,...

हम शिक्षक है, शिक्षा की तस्वीर बदल देंगेभारत के...