श्री रामकृष्ण परमहंस के अनमोल वचन – Ramakrishna Paramahamsa Quotes in Hindi

भगवान हर जगह है और कण-कण में हैं, लेकिन वह एक आदमी में ही सबसे अधिक प्रकट होते है, इस स्थिति में भगवान के रूप में आदमी की सेवा ही भगवान की सबसे अच्छी पूजा है।

फलों से लदा पेड़ हमेशा नीचे झुकता है। यदि आप महान बनना चाहते हैं, तो दीन और नम्र बनो।

इश्वर सभी मनुष्यो में है परन्तु सारे मनुष्य ईश्वर में नहीं है यही हमारे दुःख का कारण है।


यदि एक बार गोता लगाने से आपको मोती नहीं मिलता है तो आपको यह निष्कर्ष निकालने की आवश्यक नहीं है की समुद्र में मोती नहीं है।

अहंकार के मर जाने पर सारे संकट समाप्त हो जाते हैं।

भगवान को सभी पथो और माध्यमों के द्वारा महसूस किया जा सकता हैं, सभी धर्म सच्चे और सही हैं। महत्वपूर्ण बात यह यह कि आप उस तक पहुँच पाते हैं या नहीं। आप वहां तक जानें के लिए कोई भी रास्ता अपना सकते हैं रास्ता महत्व नहीं रखता।

यदि आप पागल ही बनना चाहते हैं तो सांसारिक वस्तुओं के लिए मत बनो, बल्कि भगवान के प्यार में पागल बनों।

अनुग्रह की हवाएँ हर समय चलती हैं। हमें बस इतना करना है कि हम अपनी पाल सेट करें।

हम चाहे दुनिया में हर तीर्थ धाम कर ले, तब भी हमे सुकून नहीं मिलेगा। जब तक की हम अपने मन में शांति न खोजे।

सत्य बताते समय बहुत ही एक्राग और नम्र होना चाहिए क्योंकि सत्य के माध्यम से ही भगवान का अहसास किया जा सकता हैं।

प्यार के माध्यम से त्याग और विवेक स्वाभाविक रूप से प्राप्त हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें – श्री रामकृष्ण परमहंस की जीवनी – Ramakrishna Paramahamsa Biography in Hindi

यह भी पढ़ें

टॉप ट्रेंडिंग

विजेता पर शायरी जो कभी असफल नहीं हुएविजेता वो नहीं...

“शिक्षक” और “सड़क”दोनों एक जैसे होते हैंखुद हाँ हैं...

परदेसी से दिल ना लगानावो बड़े मजबूर होते हैं,वो...