तू साथ है तो फिर – Sath, Gam, Ruthna, Saja Par Shayari

तू साथ है तो फिर
कोई गम नहीं,
पर तेरा रूठना भी
किसी सजा से कम नहीं।

यह भी पढ़ें

जरूरत ही नहीं उस जीत की – Jeet, Jarurat, Sath, Haar Par Shayari

जरूरत ही नहीं उस जीत कीजिसमे तुम न हो,तुम्हारे...

गम इस कदर मिला कि – Gam, Khushi, Pina, Sharab, Taras, Tanha Par Shayari

गम इस कदर मिला कि घबराकर पी गए हम,खुशी...

टॉप ट्रेंडिंग

चिलचिलाती धूप में आए ढूंढने छांव,देखा जब मोर को...

वो कहाँ तूझसे इश्क़ करता है,बस तन्हा होता है...

उम्मीदें तैरती रहती हैं,कश्तियां डूब जाती है.. कुछ घर सलामत...