श्री रामचंद्र जी की आरती लिरिक्स – Shree Ramchandra Ji Ki Aarti Lyrics in Hindi

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन – Shree Ram Chandra Kripalu Bhajman

श्री राम चंद्र कृपालु भजमन हरण भाव भय दारुणम्।
नवकंज लोचन कंज मुखकर, कंज पद कन्जारुणम्।।

कंदर्प अगणित अमित छवी नव नील नीरज सुन्दरम्।
पट्पीत मानहु तडित रूचि शुचि नौमी जनक सुतावरम्।।

भजु दीन बंधु दिनेश दानव दैत्य वंश निकंदनम्।
रघुनंद आनंद कंद कौशल चंद दशरथ नन्दनम्।।

सिर मुकुट कुण्डल तिलक चारु उदारू अंग विभूषणं।
आजानु भुज शर चाप धर संग्राम जित खर-धूषणं।।

इति वदति तुलसीदास शंकर शेष मुनि मन रंजनम्।
मम ह्रदय कुंज निवास कुरु कामादी खल दल गंजनम्।।

मनु जाहिं राचेऊ मिलिहि सो बरु सहज सुंदर सावरों।
करुना निधान सुजान सिलू सनेहू जानत रावरो।।

एही भांती गौरी असीस सुनी सिय सहित हिय हरषी अली।
तुलसी भवानी पूजि पूनी पूनी मुदित मन मंदिर चली।।

जानि गौरी अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि।
मंजुल मंगल मूल वाम अंग फरकन लगे।।

श्री राम चंद्र कृपालु भजमन हरण भाव भय दारुणम्।
नवकंज लोचन कंज मुखकर, कंज पद कन्जारुणम्।।

यह भी पढ़ें

सबसे बड़ी अयोध्या नगरी – Shree Ram or Ayodhya Nagari par Suvichar Shayari Status in Hindi

गंगा बड़ी गोदावरी,तीरथ बड़ा प्रयाग,सबसे बड़ी अयोध्या नगरी,जहां राम...

सिया रघुवर जी के संग परन लगी लिरिक्स । Siya Raghuvar Ji Ke Sang Paran Laagi Lyrics in Hindi

सिया रघुवर जी के संग परन लगी हरे हरेपरन...

टॉप ट्रेंडिंग

तुझे चाहा भी तो इजहार न कर सके,कट गई...

एक कौआ था जो अपनी जिंदगी से बहुत खुश...

उधर उनकी चल रही हैऔरों से गुफ़्तगू,इधर मेरी खुद...