स्वभाव रखना है तो उस दीपक की तरह रखिये – Swabhav, Deepak, Badshah, Mahal, Roshni, Garib Par Suvichar

स्वभाव रखना है तो उस दीपक की तरह रखिये
जो “बादशाह” के महल में भी
उतनी ही रोशनी देता है जितनी कि
किसी “गरीब” की झोपड़ी में.

यह भी पढ़ें

दूसरों की अपेक्षा अगर आपको

दूसरों की अपेक्षा अगर आपकोसफलता देर से मिले तो...

टॉप ट्रेंडिंग

जिस वक्त उसने कहातुम्हारी सोच ही घटिया है,उस वक्त...

पूरे की ख्वाहिश मेंइंसान बहुत कुछ खोता है,भूल जाता...

याद करने की हम नेहद कर दी मगर,भूल जाने...