तिनका सा मै – Tinka, Samandar, Ishk, Dubna, Dar Par Shayari

तिनका सा मै
और समंदर सा इश्क़,
डूबने का डर
और डूबना ही इश्क़.

यह भी पढ़ें

गर शौक चढ़ा है इश्क़ का – Shauk, Ishq, Imtehan, Barish, Ashq, Pehchan Par Shayari

गर शौक चढ़ा है इश्क़ कातो इम्तेहान देना तुम,बारिश...

पा लेने की बेचैनी – Pa Lena, Bechaini, Kho Dena, Dar, Zindagi, Safar par Shayari

पा लेने की बेचैनीऔर खो देने का डरबस इतना...

स्त्री कभी हारती नहीं है – Stri, Haar, Samaj, Bachpan, Dar Par Shayari

स्त्री कभी हारती नहीं हैउसे हराया जाता है,समाज क्या...

टॉप ट्रेंडिंग

तुझे चाहा भी तो इजहार न कर सके,कट गई...

एक कौआ था जो अपनी जिंदगी से बहुत खुश...

वो जो सिर झुकाकरधीमी सी आवाज में कहते हैं...