उधर उनकी चल रही है – Udhar, Guftagu, Idar, Bol Chal Par Shayari

उधर उनकी चल रही है
औरों से गुफ़्तगू,
इधर मेरी खुद से भी
बोल चाल बंद है.

यह भी पढ़ें

टॉप ट्रेंडिंग

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,गोविन्द...

बा मुश्किल हैये गवारा करनादिल से उतरे हुए लोगों...

हो भी नहीं और हर जहाँ होतुम एक गोरखधंधा...