उम्मीदें तैरती रहती हैं – Ummidein, Kashtiyan, Aandhiyan, Tuafan, Aas, Vishwas Par Kavita

उम्मीदें तैरती रहती हैं,
कश्तियां डूब जाती है..

कुछ घर सलामत रहते हैं,
आँधियाँ जब भी आती है..

बचा ले जो हर तूफां से,
उसे “आस” कहते हैं…

बड़ा मजबूत है ये धागा
जिसे “विश्वास” कहते है…!!

यह भी पढ़ें

टॉप ट्रेंडिंग

हो भी नहीं और हर जहाँ होतुम एक गोरखधंधा...

है प्रभु, मेरी दुआओं का असर इतना रहे किमेरी...

परिन्दों की फ़ितरत सेआए थे वो मेरे दिल में,ज़रा...