ऐ वक़्त जरा सुन तो – Wakt, Chai, Gila Shikva Par Shayari

ऐ वक़्त जरा सुन तो
आ बैठ ना मेरे पास
एक-एक कप चाय पी कर
गिला-शिकवा भूलाते हैं

यह भी पढ़ें

टॉप ट्रेंडिंग

हुस्न-ए-बेनजीर के तलबगार हुए बैठे हैं,उनकी एक झलक को...

अपनी दुनिया, अपनी धुन मेंखो जाऊं तो क्या होगा...

आप सभी को शारदीय #नवरात्रि के पावन पर्व की...