ऐ वक़्त जरा सुन तो – Wakt, Chai, Gila Shikva Par Shayari

ऐ वक़्त जरा सुन तो
आ बैठ ना मेरे पास
एक-एक कप चाय पी कर
गिला-शिकवा भूलाते हैं

यह भी पढ़ें

टॉप ट्रेंडिंग

मैं किस्मत कासबसे पसंदीदा खिलौना हूँ,वो रोज़ जोड़ती है...

परिन्दों की फ़ितरत सेआए थे वो मेरे दिल में,ज़रा...

भारतीय सभ्यता और संस्कृति की विशालता और उसकी महत्ता...